एनसीसी का मतलब क्या होता है और इसके कार्य क्या है ?

NCC का मुख्यालय दिल्ली में स्तिथ है। एनसीसी की स्थापना 16 जुलाई 1948 को नेशनल कैडेट कोर एक्‍ट के तहत हुई थी,

NCC को यूनिवर्सिटी ऑफ ऑफिसर्स ट्रेनिंग कोर का उत्‍तराधिकारी माना गया था

इस ट्रेनिंग कोर को अंग्रेजों ने सन 1942 में द्वितीय विश्‍व युद्ध के दौरान प्रारम्भ किया था

NCC में छात्रों की सेना को कहा जाता है इसमें छात्रों को सेना से संबंथी ट्रैंनिंग दी जाती है

क्योकि जो छात्र सेना में भर्ती होना चाहते है वो NCC को ज्वाइन करते है । यहां उन्हें सेना में आपको कैसे रहना है और दुश्मन का सामना कैसे करना है जैसी बुनियादी स्तर की ट्रेनिंग दी जाती है।

एनसीसी का पूरा नाम National Cadet Corps (नेशनल कैडेट कॉर्प्स ) जिसका हिंदी में अर्थ “राष्ट्रीय सैनिक छात्र दल” होता है।

इसमें छोटे हथियारों और परेड में बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण दिया जाता है।

एनसीसी का मुख्य उद्देश्य युवाओ में एक धर्मनिरपेक्ष दृष्टिकोण,अनुशासन, भाईचारा, साहस की भावना और निस्वार्थ सेवा के आदर्शों का विकास करना है।

आपदा के समय भी NCC वाले जरूरतमंदो की बहुत मदद करते है और उन तक खाना पहुंचाते है।

एनसीसी ज्वाइन करने के लिए कुछ योग्यताओ की आवश्यकता होती है जैसे की आप सर्वप्रथम भारत के नागरिक होने चाहिए।

आपकी आयु जूनियर विंग के लिए 12 से 18.5 वर्ष होनी चाहिए और सीनियर विंग के लिए अधिकतम 26 वर्ष होनी चाहिए।

आप बिना किसी परीक्षा या एंट्रेंस एग्जाम के भी भारत की तीनों सेनाओं में शामिल हो सकते हैं।

एनसीसी कैडर के लिए सशस्त्र बल में अलग से सीट रिज़र्व की जाती है । आपको सिर्फ इंटरव्यू और मेडिकल निकालना होता है।