UPSC टॉपर Shurti Sharma का इंटरव्यू:पिछले एग्जाम में 1 नंबर से चूकीं तो इस बार इंटरव्यू बिगड़ा; घर आकर खूब रोई थीं

UPSC 2021 का फाइनल रिजल्ट सोमवार को डिक्लेयर हुआ। जिसमें दिल्ली की श्रुति शर्मा ने टॉप किया।

Shurti Sharma बिजनौर में जन्मी हैं। दिल्ली से हिस्ट्री की पढ़ाई की है। 26 साल की श्रुति को एग्जाम में सिलेक्ट होने का तो पक्का यकीन था, लेकिन टॉप रैंक पाकर वे खुद हैरान हैं।

पिछले एग्जाम में वह 1 नंबर से चूक गई थीं।

UPSC में टॉप करने वाली श्रुति बिजनौर के बाद दूसरी रैंक अंकिता अग्रवाल ने और तीसरी रैंक गामिनी सिंगला के नाम रही।

इस साल टॉप-10 रैंक होल्डर्स में से 4 लड़कियां रहीं। साल 2021 के रिजल्ट में टॉप 10 में 5 लड़कियां थीं।

श्रुति- 10वीं से 12वीं की पढ़ाई सरदार पटेल स्कूल से की। ग्रेजुएशन सेंट स्टीफन्स कॉलेज से किया। पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में (JNU) में एडमिशन लिया,

लेकिन डिग्री हासिल करने के लिए दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (DSE) में दाखिला लेने के लिए JNU छोड़ दिया।

सिलेबस बहुत ज्यादा है, लेकिन मैंने कभी घंटे गिनकर पढ़ाई नहीं की। स्टडी मटेरियल को सीमित करने की चुनौती सबसे बड़ी है। मैं सिर्फ अपने नोट्स पर फोकस करती थी।

श्रुति- मेरे लिए प्रिलिम्स कभी भी स्ट्रॉन्ग पॉइंट नहीं रहा, क्योंकि उसका नेचर बदल रहा है। मैं खुद दोनों बार श्योर नहीं थी कि क्लियर होगा।

इसके लिए कोई स्ट्रैटजी नहीं है, लेकिन सिलेबस पर ध्यान रखना, बेसिक बुक्स, प्रीवियस एग्जाम्स के पेपर और रिवीजन जितना ज्यादा होगा उतना ही हेल्पफुल होगा।

श्रुति- MA हिस्ट्री में एडमिशन लिया था, लेकिन डिग्री पूरी नहीं कर पाई थी। ऑप्शनल मैंने हिस्ट्री ही चुना क्योंकि जिस सब्जेक्ट में इंटरेस्ट होता है उसमें तैयारी करना आसान होता है।

श्रुति- पेरेंट्स और फ्रैंड्स सपोर्टिव होते हैं। मुझे अच्छे संस्थानों में पढ़ने मिला। परिवार में पेरेंट्स, भाई और नानी हैं, उन्होंने हमेशा मोटिवेट किया। प्री-मेन्स के बीच बहुत कम टाइम था, इसलिए पूरा टाइम सिर्फ स्टडी में ही निकला। जो जरूरी ब्रेक होता था केवल वही लिया।

श्रुति- इंटरव्यू से मेरी उम्मीदें बहुत ज्यादा थीं। मुझे बुरा इसलिए लगा कि कई मुश्किल फैक्चुअल सवाल थे, जिनके जवाब मुझे नहीं पता थे।

कंटिन्यूअस वॉइज, लॉर्ड मेयो का एसेसिनेशन और 1812 का युद्ध जैसे सवाल पूछे थे। मैंने सोच रखा था कि जो नहीं पता था उसके लिए मैंने ईमानदारी से कहा कि मुझे जवाब नहीं आता।